VPN क्या है: Full Form of VPN की पूरी जानकारी हिंदी में

यह Virtual Private Network (VPN) क्या है? (What is VPN Full Form) और कैसे काम करता है? 21वी सदी में ज्यादातर व्यक्ति अपने smartphone या computer पर internet का इस्तेमाल करते है. Internet का इस्तेमाल करते समय आपने अकसर देखा होगा कि कुछ ऐसी वेबसाइट होती है. जिन्हें आप open नहीं कर पाते क्योंकि किसी वजह से सरकार ने ऐसी वेबसाइट को देश में बैन किया होता है. But क्या आप जानते है कि ऐसी websites को VPN Server के जरिये open किया या सकता है.

जी हाँ! आपने बिल्कुल सही पढ़ा है. VPN (Virtual Private Network) का इस्तेमाल करकें हम उन सभी वेबसाइट को access कर सकते है जिनको आपके देश में बैन किया गया है. इसके इलावा अपनी पर्सनल जानकारी को hackers से बचाने के लिए भी वीपीएन का इस्तेमाल किया जाता है. इस लेख में हम आपको VPN की पूरी जानकारी देगे. ताकि आप इसका इस्तेमाल करके अपने important डाटा को चोरी होने से बचा सके. तो चलिए शुरू करते है और जानते है कि VPN क्या होता है हिंदी में.

VPN क्या है? (What is VPN Full Form)

Full Form VPN Virtual Private Network VPN क्या है
Virtual Private Network

VPN का Full Form Virtual Private Network होता है. Virtual Private Network (VPN) एक प्राइवेट नेटवर्क है. जोकि Public एवं Private Network को सुरक्षा प्रदान करता है. World wide web पर अपने डाटा को hackers से सुरक्षित रखने के लिए user vpn का प्रयोग करते है. Virtual Private Network internet पर user के IP Address को Fake IP (Internet Protocol) में बदल देता है. जिससे hackers को सही IP का पता नहीं चलता और डाटा सुरक्षित तरीके से transfer हो जाता है.

वीपीएन एक बहुत अच्छी सुरक्षा प्रणाली है. जो सभी तरह के डाटा को सुरक्षित रखती है. ज्यादातर इसका इस्तेमाल मल्टीनेशनल कंपनी, एजुकेशनल सिस्टम आदि द्वारा किया जाता है. किसी को भी डाटा भेजते समय यह एक सेफ encrypted connection तयार करता है. जिससे डाटा safely transfer हो जाता है.

VPN Full Form = Virtual Private Network

VPN कैसे काम करता है

Virtual Private Network क्या है इसके बारे में आपको पता चल गया है. अब हम आपको इसके work के बारे में बताने वाले है. जिससे आपको VPN के बारे में अच्छी तरह से समझ आ जाएगा. तो चलिए शुरू करते है.

जैसेकि हमने आपको बता दिया है कि वीपीएन हमें internet पर हमारे डाटा को सुरक्षा प्रदान करता है. इसके इलावा भी इसका काफी इस्तेमाल किया जाता है. जैसेकि अगर आपके देश में किसी वेबसाइट को बैन किया गया है. But आप उस वेबसाइट पर visit करना चाहते है तो वीपीएन की मदद से आप ऐसा कर सकते है. अब हम आपको बताते है कि यह सब कैसे होता है.

  • जब हम अपने mobile या कंप्यूटर पर internet का इस्तेमाल करके ब्राउज़र पर कोई भी सर्च करते है तो वो request सीधा हमारे ISP (Internet Service Provider) के पास जाती है.
  • उसके बाद उस request को आगे website के server पर भेज दिया जाता है. जिससे उस server पर मौजूद वेबसाइट की सारी जानकारी हमारी screen पर show होने लगती है.

जब किसी वेबसाइट को देश में बैन किया जाता है तो उसकी जानकारी सरकार द्वारा ISP को दी जाती है और जब कोई भी user उस वेबसाइट को सर्च करता है तो ISP उस request को reject कर देता है और उस request को आगे नहीं भेजा जाता.

But जब हम VPN का प्रयोग करके सर्च करते है तो Internet service provider को लगता है कि हम VPN server पर visit करना चाहते है और उस request को पास कर देता है. उसके बाद Virtual Private Network (VPN) हमें उस वेबसाइट के साथ जोड़ देता है जिससे हम जानकारी हासिल करना चाहते है और उस वेबसाइट पर मौजूद जानकारी हमारी screen पर show होने लगती है.

VPN सुरक्षा प्रणाली

VPN सुरक्षा प्रणाली का प्रयोग user अपने डाटा को सुरक्षित तरीके से transfer करने के लिए करता है. वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क डाटा को transfer करते समय user के IP address को fake IP में बदल देता है. जिस वजह से डाटा को चुरने वालोँ को सही IP address का पता नहीं चलता. इसके इलावा VPN हमें अपने हिसाब से अपनी location का चुनाव करने देता है. जिससे किसी को भी हमारी Real location का मालूम नहीं चलता.

यह सभी काम करने के लिए VPN कुछ Network Protocol rules को follow करता है.

  • IP Security (IPSec)
  • Point to Point Tunneling Protocol (PPTP)
  • Layer2 Tunneling Protocol (L2TP)
  • Secure Socket Layer (SSL)
  • Transport Layer Security (TLS)
  • Datagram Transport Layer Security (DTLS)

Virtual Private Network (VPN) Software

Internet पर बहुत तरह के VPN software मौजूद है. जिनमें से कुछ free है और कुछ Paid है. आप अपनी जरूरत के हिसाब से अपने लिए software का चुनाव कर सकते है. अगर आप बैन वेबसाइट को access करने के लिए वीपीएन का प्रयोग करना चाहते है तो आप free version का पइस्तेमाल कर सकते है. But डाटा को transfer करने के लिए हमेशां Paid software का प्रयोग करे.

  • OpenVPN
  • Tunnel Bear
  • Hotspot Shield
  • Cyber Ghost
  • Total VPN
  • Surf Easy
  • Finch VPN
  • Surf Easy
  • Safer VPN
  • Buffered VPN
  • Turbo VPN
  • Thunder VPN
  • Free VPN Master

वीपीएन सेवा चुनते समय ध्यान रखें

किसी भी Virtual Private Network को चुनते समय कुछ बातोँ का ध्यान जरुर रखें. आप VPN का किस तरह के काम को करने के लिए प्रयोग करना चाहते है. यह आप के Network Protocol पर depend करता है. जैसेकि

  • Point to Point Tunneling Protocol (PPTP) का प्रयोग Wi-Fi का प्रयोग करते समय करना सही रहता है, क्योंकि ये Wi-Fi की speed को तेज कर देता है.
  • Layer2 Tunneling Protocol (L2TP) ज्यादा सुरक्षा प्रदान करता है. अगर आप ईमेल, बैंकिंग आदि के लिए वीपीएन का प्रयोग करना चाहते है तो L2TP को चुने.
  • IP Security (IPSec) का इस्तेमाल डाटा को सुरक्षित तरीके से transfer करने के लिए किया जाता है.
  • Secure Sockets Layer (SSL) and Transport Layer Security (TLS) का इस्तेमाल important documents आदि को transfer करने के लिए करे. यह बहुत ही secure network protocol है.
  • फ्री वीपीएन का प्रयोग सिर्फ बैन वेबसाइट को access करने के लिए करे. क्योंकि सभी वीपीएन service provider सही नहीं होते. वह आपके डाटा का गलत इस्तेमाल कर सकते है.
  • अगर आप किसी दुसरे देश की वेबसाइट को access करना चाहते है तो आप Exit Servers का इस्तेमाल करे. इसका इस्तेमाल करने से आप की location उसी देश की show होती है. जिस देश की वेबसाइट को आप access कर रहे है.
  • Internet पर काफी तरह की VPN software मौजूद है. उनमें से काफी सारे software आपके डाटा को leek कर सकते है या किसी को बेच सकते है. इसलिए किसी भी VPN software का इस्तेमाल करने से पहले अच्छी तरह से research कर ले.
  • Domain Name क्या है पूरी जानकारी हिंदी में
  • Search Engine क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

आज आपने क्या सिखा

मुझे पूर्ण आशा है कि मेरा यह article “VPN क्या है (What is VPN Full Form)” पढ़ कर आपको Virtual Private Network के बारे में पूरी जानकारी हासिल हो गई होगी. इस लेख में हम ने आपको वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क कैसे काम करता है की detail में जानकारी दी है.

VPN (Virtual Private Network) एक प्राइवेट नेटवर्क है जो हमें internet पर सुरक्षा प्रदान करता है. जैसेकि Public Network and Private Network पर डाटा को transfer करते समय हमारे IP (internet Protocol) address को Fake IP में बदल कर डाटा को चोरी होने से बचाता है. इसके इलावा किसी भी बैन वेबसाइट के डाटा को access करने में हमारी मदद करता है.

मेरा हर समय प्रयास रहता है कि मैं आप तक ऐसे जानकारी से भरपूर article लिख कर लाता रहू.

मैं आपसे निवेदन करता हू कि आप इस article को share जरुर करे.

यह article पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

1 thought on “VPN क्या है: Full Form of VPN की पूरी जानकारी हिंदी में”

  1. बढ़िया जानकारी बेहद ही आसान भाषा मे। आपके लिखने की शैली दुसरो से अलग है।

    Reply

Leave a Comment